BJP सांसद सनी देओल को चुनाव आयोग का नोटिस, जानें क्या है मामला...

पंजाब के गुरदासपुर में सनी देओल ने कांग्रेस के सुनील जाखड़ को हराया है. गुरदासपुर जिला निर्वाचन अधिकारी-सह-उपायुक्त विपुल उज्ज्वल ने सनी देओल को अपने चुनाव खर्च खाते का ब्योरा देने के लिए नोटिस जारी किया है. यह भी पढ़ें: जब लोकसभा में शपथ के दौरान BJP सांसद सनी देओल की लड़खड़ाई ज़बान, देखें- VIDEOउज्ज्वल ने चुनाव खर्च के आंकड़े पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, लेकिन आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि प्रारंभिक गणना के अनुसार, सनी देओल का चुनावी खर्च 86 लाख रुपये पाया गया. उज्ज्वल ने बताया कि सनी देओल के चुनाव खर्च की राशि 'अंतिम' आंकड़ा नहीं है. उन्होंने कहा कि देओल को खातों का वास्तविक ब्योरा पेश करने के लिए नोटिस जारी किया है.

Source:NDTV

June 19, 2019 15:56 UTC


बजट 2019: बजट में वरिष्ठ नागरिकों को टैक्स में छूट मिलने की मांग, एसोचैम ने कहा- 3 लाख से बढ़ाकर...

उद्योग संगठन एसोचैम ने केंद्रीय बजट में वरिष्ठ नागरिकों को कर में लाभ प्रदान करने का सुझाव दिया है. एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) ने अपने बजट ज्ञापन में वरिष्ठ नागरिकों (60 वर्ष से ज्यादा उम्र के व्यक्ति) के लिए आयकर में रियायत की सीमा तीन लाख रुपये की आय से बढ़ाकर 7.5 लाख रुपये करने का सुझाव दिया है. एसोचैम के सुझाव के अनुसार, 80 साल से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों को 12.50 लाख रुपये तक की आय पर कोई कर नहीं लगाया जाना चाहिए. एसोचैम ने कहा कि ब्याज दर में पिछले एक साल में काफी कमी आने से वरिष्ठ नागरिक वित्तीय कठिनाई से जूझ रहे हैं, क्योंकि वास्तविक महंगाई मुख्य महंगाई दर से काफी ज्यादा है उससे उनकी मुसीबत बढ़ गई है. Budget 2019: बजट के बाद आ सकती है डायरेक्ट टैक्स पर टास्क फोर्स की रिपोर्टउद्योग संगठन ने कहा कि इसके अलावा बुढ़ापे में चिकित्सकीय खर्च बढ़ जाती है क्योंकि मेडिकल बीमा के लिए वरिष्ठ नागरिकों को एक या दो दावे के बाद ज्यादा प्रीमियम चुकाना पड़ता है.

Source:NDTV

June 19, 2019 15:33 UTC


World Cup 2019: धवन के टीम से बाहर होने के बाद गांगुली ने कहा- यहां तक तो जरूर पहुंचेगी टीम इंडिया

World Cup 2019: धवन के टीम से बाहर होने के बाद गांगुली ने कहा- यहां तक तो जरूर पहुंचेगी टीम इंडियानई दिल्ली, जेएनएन। ICC cricket world cup 2019 अंगूठे में चोट की वजह से भारतीय ओपनर बल्लेबाज विश्व कप से बाह हो गए। धवन के बाहर होने के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि इससे टीम को झटका जरूर लगा है, लेकिन टीम इंडिया इतनी मजबूत है कि वो विश्व कप के सेमीफाइनल में जरूर पहुंचेगी। धवन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच के दौरान अंगूठे में लगी चोट की वजह से विश्व कप से बाहर हो गए हैं। उम्मीद थी कि वो जल्द ही ठीक हो जाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर भी हैमस्ट्रिंग की वजह से कुछ मैचों के लिए बाहर हैं।गांगुली ने कहा कि ये भारतीय टीम के लिए बड़ा झटका है पर भारत ने पाकिस्तान को बड़े अंतर से हराया था। टीम इंडिया इस वक्त फॉर्म में है। चोट पर किसी का वश नहीं है लेकिन भुवी के टीम में ना होने पर भी विजय शंकर ने अच्छा प्रदर्शन किया था। ये टीम काफी मजबूत है और सेमीफाइनल तक जरूर पहुंचेगी। इस विश्व कप में टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड से भी मजबूत टीम है।गांगुली ने कहा, 'यह झटका है लेकिन भारत ने पाकिस्तान को बड़े अंतर से हराया। भारतीय टीम फॉर्म में है।' उन्होंने कहा, 'चोट पर किसी का वश नहीं है लेकिन भुवी की गैर मौजूदगी में विजय शंकर ने भी अच्छा प्रदर्शन किया। यह टीम मजबूत है और सेमीफाइनल तक जरूर पहुंचेगी।' उन्होंने कहा, 'इस विश्व कप में सबसे मजबूत भारतीय टीम है। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया से भी।'आपको बता दें कि धवन की जगह टीम में रिषभ पंत को शामिल करने का अनुरोध बीसीसीआइ ने आइसीसी से कर दिया है। यानी रिषभ धवन की जगह टीम इंडिया का हिस्सा बनेंगे।लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एपPosted By: Sanjay Savern

June 19, 2019 15:18 UTC


सर्वदलीय बैठक के बाद बोले राजनाथ सिंह- ज्यादातर पार्टियों ने किया 'एक देश एक चुनाव का समर्थन'

खास बातें वन नेशन वन इलेक्शन पर पीएम की सर्वदलीय बैठक राजनाथ बोले-ज्यादातर दलों ने किया एकसाथ चुनाव का समर्थन 3 मुख्यमंत्रियों समेत 8 बड़े नेता बैठक में शामिल नहीं हुएदेश में एक साथ लोकसभा और विधानसभा का चुनाव कराए जाने के मुद्दे पर पीएम मोदी ने आज सर्वदलीय बैठक की, हालांकि कांग्रेस इस बैठक से दूर रही. राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने बैठक में कहा कि 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' के मुद्दे पर एक समिति गठित की जाएगी. राजनाथ सिंह ने कहा कि देश में एकसाथ चुनाव कराने के मुद्दे पर ज्यादातर दलों ने समर्थन किया, हालांकि कुछ मुद्दों पर वैचारिक मतभेद भी थे. राजनाथ सिंह ने बताया कि हमने देशभर की 40 पार्टियों के अध्यक्षों को आमंत्रित किया था, जिसमें से 21 पार्टियों के प्रमुख आज पहुंचे थे और 3 ने पत्र लिखा था. हालांकि सीताराम येचुरी ने एक देश एक चुनाव के मुद्दे का विरोध किया.

Source:NDTV

June 19, 2019 14:41 UTC


केरल सरकार की मांग सबरीमाला पर केंद्र लाए कानून

तिरुवनंतपुरम, प्रेट्र। केरल की माकपा के नेतृत्व वाली एलडीएफ सरकार ने केंद्र सरकार से मांग की है कि वह ऐसा कानून लाए जिससे सबरीमाला मंदिर में आने वाले भगवान अयप्पा के भक्तों के विश्वास की रक्षा हो सके।उल्लेखनीय है कि पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने सभी आयु वर्ग की महिलाओं के लिए सबरीमाला मंदिर के दरवाजे खोलने का आदेश दिया था।केरल के देवासोम मंत्री कडकंपल्ली सुरेंद्रन ने संवाददाताओं से कहा कि सबरीमाला मुद्दा केंद्र सरकार के समक्ष बतौर प्राइवेट बिल आएगा। हर किसी को पता है कि प्राइवेट बिलों का हश्र क्या होता है। दरअसल, भगवान अयप्पा के मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर रोक लगाने संबंधी एक प्राइवेट बिल लोकसभा में इसी हफ्ते पेश होने वाला है।केरल के मंत्री सुरेंद्रन ने कहा कि ऐसे हालात न बनें यह सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश भाजपा नेतृत्व को केंद्र पर दबाव डालना चाहिए और कानून की रक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि लोकसभा में भाजपा का जबरदस्त बहुमत है और इसलिए उसे इस मामले में कोई कानून लाना चाहिए।लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एपPosted By: Nitin Arora

June 19, 2019 14:37 UTC


PNB ने वसूला 20,000 करोड़ रुपये का 'बैड लोन', बैंक को नीरव और मेहुल चोकसी ने लगाया सबसे ज्यादा चूना

नई दिल्ली (पीटीआइ)। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने मार्च 2019 में समाप्त वित्तीय वर्ष के दौरान 20,000 करोड़ रुपये के 'बैड लोन' को रिकवर किया है। यह पहले के वर्ष में वसूली गई राशि से लगभग दोगुनी है। बैंक के अध्यक्ष अध्यक्ष सुनील मेहता ने यह जानकारी दी।बैंक को ज्वेलर्स नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और कुछ अन्य बैंक कर्मचारियों के द्वारा करीब 1,000 करोड़ रुपये की ठगी के बाद कथित तौर पर सबसे ज्यादा नुकसान हुआ। इस घोटाले का खुलासा फरवरी 2018 में हुआ।बैंक की वार्षिक रिपोर्ट में मेहता ने कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 की शुरुआत अच्छी नहीं रही। उन्होंने कहा कि इतने बड़े और गंभीर मामले के सामने आने के बाद बैंक के सामने सबसे बड़ी समस्या इस संकट से उबरना था।उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी चुनौतियों के बावजूद बैंक 2017-18 के दौरान 12,283 करोड़ रुपये के नुकसान के मुकाबले अपना शुद्ध घाटा 9,975 करोड़ रुपये तक सीमित करने में सक्षम था, साथ ही गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) के उच्च स्तर पर तिमाही दर तिमाही कमी देखी गई। मार्च 2018 में शुद्ध एनपीए 48,684 करोड़ रुपये से घटकर 30,038 करोड़ रुपये रह गया।मेहता ने कहा, 'मार्च 2018 के दौरान 9,666 करोड़ रुपये की वसूली की तुलना में मार्च 2019 तक 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की वसूली की गई और यह अब भी जारी है।'वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि इन चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भी बैंक ने मार्च 2019 तक 11.1 फीसद की सालाना वृद्धि के साथ मार्च 2019 तक 11.45 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचने के लिए घरेलू कारोबार में 1 लाख करोड़ रुपये जोड़े हैं।लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एपPosted By: Nitesh

June 19, 2019 14:13 UTC


कर्नाटक / गठबंधन सरकार पर कुमारस्वामी ने कहा- हर दिन जिस दर्द से गुजरता हूं, उसे बयां नहीं कर सकता

कुमारस्वामी ने कहा- भाजपा ने मेरे विधायक को पार्टी छोड़ने के लिए 10 करोड़ की पेशकश कीसिद्धारमैया ने कहा- भाजपा सरकार को अस्थिर करने की कोशिशों में जुटी, कामयाब नहीं होगीDainik Bhaskar Jun 19, 2019, 07:08 PM ISTचेन्नापटना. कर्नाटक की जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार की मुश्किलों पर मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने खुलकर बयान दिया। कुमारस्वामी ने कहा कि इस सरकार को सही तरह से चलाने के लिए वे हर दिन जिस दर्द से गुजरते हैं, उसे बयां नहीं कर सकते।कुमारस्वामी ने मंगलवार को कहा- मैं आपकी उम्मीदों को पूरा करने का वादा करता हूं। मैं अपने दर्द को बयां नहीं कर सकता। मैं इसे आपके साथ साझा करना चाहता था, लेकिन नहीं कर सकता। मैं राज्य के लोगों का दर्द कम करना चाहता हूं। मेरे ऊपर सही तरह से सरकार को चलाने की जिम्मेदारी है।"भाजपा नेता विधायक खरीदने की कोशिश कर रहे"कुमारस्वामी ने भाजपा पर आरोप लगाया- मेरे एक विधायक को 10 करोड़ रुपए देने की पेशकश की गई है। यह बात उसने मुझे फोन पर बताई। उसे जेडीएस छोड़ भाजपा में शामिल होने के लिए कहा गया। भाजपा नेता लगातार यह कोशिशें कर रहे हैं, लेकिन भगवान की कृपा और आपके आशीर्वाद से सरकार अगले 4 साल तक सुरक्षित है।सिद्धारमैया ने कहा- सरकार को कोई खतरा नहींकर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कहा कि कर्नाटक सरकार को कोई खतरा नहीं है। गठबंधन सरकार पूरी तरह सुरक्षित है। कोई परेशानी नहीं है। भाजपा बहुत प्रयास कर रही है, लेकिन वह सफल नहीं हो पाएगी।रोशन बेग ने कहा- मुझे सच बोलने की सजा मिलीकांग्रेस से निष्कासित किए गए विधायक रोशन बेग ने बुधवार को कहा कि मुझे सच बोलने की सजा मिली। मैं पार्टी का अनुशासित सिपाही था। राज्य की लीडरशिप पर सवाल उठाकर मैंने केवल कार्यकर्ताओं की बात सामने रखी थी। मैं राहुल गांधी की कांग्रेस में शामिल हूं। सिद्धारमैया की कांग्रेस में नहीं।कर्नाटक: 2018 विधानसभा की स्थितिकुल सीटें: 224बहुमत: 113

June 19, 2019 13:52 UTC


'चमकी बुखार' से बच्चों की मौत के मामले में सुप्रीम कोर्ट में एक और याचिका दाखिल

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से बच्चों की मौत को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक और जनहित याचिका दाखिल हो गई है. इससे पहले मंगलवार को भी सुप्रीम कोर्ट में इसी मामले में एक जनहित याचिका दाखिल की गई थी. याचिका में कहा गया है कि एक मेडिकल एक्सपर्ट की टीम का गठन किया जाए जो चमकी बुखार फैलने की वजह की जांच कर तीन महीनों के भीतर सुप्रीम कोर्ट में रिपोर्ट सौंपे. मेडिकल एक्सपर्ट की टीम इस बात की भी जांच करे कि आखिर किसकी लापरवाही से 100 से ज्यादा बच्चों की जान गई. बिहार में चमकी बुखार से बच्चों की मौत का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, याचिका दाखिलइससे पहले बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से बच्चों की मौत का मामला मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया.

Source:NDTV

June 19, 2019 13:51 UTC


Budget 2019: आर्थिक विकास और नौकरियां बढ़ाने समेत इन बिंदुओं पर वित्त मंत्रालय का जोर

सूत्रों के अनुसार, इन मसलों के समाधान के लिए विशेषज्ञों, उद्योग और नागरिकों से सुझाव लिया जाएगा. निवेश और आर्थिक विकास पर गठित मंत्रिमंडलीय समिति आर्थिक विकास को रफ्तार दिलाने और इन्फ्रास्ट्रक्चर व कृषि जैसे प्रमुख क्षेत्रों में निवेश बढ़ाने को लेकर कदम उठाने का सुझाव देगी. Budget Expectation: कंपनियों की टीवी, एसी, रेफ्रिजरेटर पर GST दर घटाने की मांगपीएम-किसान योजना का लाभ अब देश के 14.5 करोड़ किसानों को मिलेगा जिस पर 87,000 करोड़ रुपये सालाना खर्च होंगे. पेट्रोल, डीजल के दाम स्थिर, कच्चे तेल में लौटी तेजीराष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की पूर्व सरकार ने एक फरवरी को अंतरिम बजट में घोषणा की थी कि प्रमुख घोषणाएं नियमित बजट में की जाएंगी. संसद में बजट पेश होने के एक दिन पहले चार जुलाई को 2019-20 के लिए आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाएगा.

Source:NDTV

June 19, 2019 13:41 UTC


संसद में नेताओं के हंसी-ठहाके पर फूटा कुमार विश्वास का गुस्सा, बोले- 200 बच्चों की मौत हो गई है और...

खास बातें मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर भड़के कुमार विश्वास ट्वीट कर नेताओं पर साधा निशाना रामदास अठावले का वीडियो किया ट्वीट17वीं लोकसभा का पहला सत्र शुरू हो गया है. उन्होंने आगे मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार के कहर का जिक्र करते हुए लिखा, '200 बच्चों की मौत और लगातार हो रही मौतों के बीच आइए अपनी-अपनी पार्टी के नेताओं के चिंटू बनकर बचाव के कुतर्क गढ़ें'. हर दल के नेता इस चर्चा पर बहुत ठहाका लगा-लगाकर ख़ुश हुए 200 बच्चों की हो चुकी और लगातार हो रही मौतों के बीच ! इसके साथ ही अब इस बुखार से बच्चों की मौत का आंकड़ा 112 तक पहुंच गया है. Video: मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत मामले में किए गए सवालों से बचते नजर आए डॉ हर्षवर्धन

Source:NDTV

June 19, 2019 13:30 UTC


वार्षिक GST रिटर्न दाखिल करने की समय सीमा 4 महीने बढ़ाने की मांग

गुवाहटी (पीटीआइ)। कर एवं कानूनी सलाहकारों के निकाय ने 2017-18 का जीएसटी रिटर्न दाखिल करने के लिए दी गई तीन महीने की समयसीमा को बढ़ाकर कम से कम चार महीने आगे बढ़ाने का आग्रह किया है। इसे लेकर संगठन ने बुधवार को शिकायत की। संगठन ने कहा कि सैकड़ों संशोधनों, अधिसूचना और परिपत्र ने अधिनियम को बहुत जटिल बना दिया है।टैक्स बार एसोसिएशन के अधिकारियों ने कहा कि सरकार ने नियमों और कर में सैकड़ों बदलाव किए हैं, जिसने पूरी जीएसटी प्रक्रिया और रिटर्न फाइल करने को बहुत भ्रामक बना दिया है। इस संगठन में 400 से ज्यादा चार्टर्ड अकाउटेंट, कंपनी सेक्रेटरी और कर सलाहकार शामिल हैं। टैक्स बार एसोसिएशन (टीबीए) के अध्यक्ष गोपाल सिंघानिया ने कहा, 'सरकार ने 2017-18 के लिए जीएसटी वार्षिक रिटर्न फार्म 9, 9 ए और 9 सी मार्च 2019 में ऑनलाइन और अप्रैल 2019 में ऑफलाइन उपलब्ध कराया है। इन्हें समझने और फाइल करने के लिए सिर्फ तीन महीने का समय दिया गया है।'यह भी पढ़ें: सिर्फ एक गलती से खाली हो जाएगा आपका अकाउंट, आयकर विभाग की है हिदायतकरदाताओं और सलाहकारों को जुलाई 2017 से जीएसटी लागू होने के समय से अब तक सरकार की ओर से जारी स्पष्टीकरण और संशोधन को भी ध्यान में रखना होगा। सिंघानिया ने 2017-18 के लिए जीएसटीआर -9, 9 ए और जीएसटीआर -9 सी दाखिल करने की निर्धारित तिथि को कम से कम चार महीने बढ़ाकर 31 अक्टूबर 2018 करने का आग्रह किया है।यह भी पढ़ें: अंडमान निकोबार घूमने का है प्‍लान तो ये है IRCTC का शानदार ऑफर, जानें पूरी डिटेलसिंघानिया ने सुझाव दिया कि वार्षिक रिटर्न को सही तरीके से दाखिल करने के मामले में मासिक अथवा तिमाही रिटर्न में एक बार संशोधन करना काफी जरूरी होगा। उन्होंने कहा कि 2017- 18 और 2018-19 के लिए जीएसटीआर 9, 9ए और 9सी की वार्षिक रिटर्न दाखिल करने की तिथि को एक साथ अधिसूचित किया जाना चाहिये ताकि दोनों वर्ष के लिये एक साथ बेहतर समन्वय बिठाया जा सकेगा।लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एपPosted By: Nitesh

June 19, 2019 13:18 UTC


Tags
Cryptocurrency      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       VMware

Loading...