महाराष्ट्र के अहमदनगर से डराने वाली तस्वीरें: एक दिन में 42 शवों का अंतिम संस्कार, इनमें 22 शव एक साथ जले; 6 को एक के ऊपर एक रखकर जलाया गया

Hindi NewsLocalMaharashtraA Frightening Picture From Ahmednagar: 22 Bodies Out Of 42 Cremated Together, The Bodies Of 6 Infected Were Burnt By Placing One On Top Of Another. Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपमहाराष्ट्र के अहमदनगर से डराने वाली तस्वीरें: एक दिन में 42 शवों का अंतिम संस्कार, इनमें 22 शव एक साथ जले; 6 को एक के ऊपर एक रखकर जलाया गयाअहमदनगर 20 घंटे पहलेकॉपी लिंकवीडियोअमरधाम में 20 का अंतिम संस्कार विद्युत शवदाहगृह में और 22 का लकड़ी की चिता पर हुआ।महाराष्ट्र के अहमदनगर में कोरोना संक्रमितों की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है। गुरुवार को यहां 2,233 नए संक्रमित मिले और 42 लोगों की मौत हुई। इस बीच एक हैरान करने वाली तस्वीर भी देखने को मिली। गुरुवार को देर रात शहर के अमरधाम श्मशान घाट में एक साथ 42 मरीजों का अंतिम संस्कार किया गया। इनमें 20 का अंतिम संस्कार विद्युत शवदाहगृह में और 22 का लकड़ी की चिताओं पर हुआ। 6 शव तो एक के ऊपर एक रखकर जलाए गए।श्मशान घाट में 6 शवों को एक के ऊपर एक रखकर जलाए जाने का वीडियो सामने आने के बाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के कमिश्नर शंकर गोरे ने कहा कि एक साथ 6 शवों को जलाना अमानवीय है। इस मामले की जांच कराकर दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पूर्व मंत्री और BJP नेता ​​​राधाकृष्ण विखे पाटिल ने भी इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।अहमदनगर के श्मशान घाट में गुरुवार की रात इस तरह का नजारा था। 22 शवों का अंतिम संस्कार किए जाने पर हर जगह केवल चिताएं ही नजर आ रही थीं।शिवसेना ने BJP पर आरोप लगायाशिवसेना के पार्षद बालासाहेब बोराटे ने कहा कि सबसे पहले तो एक ही एंबुलेंस में 6 डेड बॉडी ले जाना गलत हैं। इसके बाद एक साथ इनका अंतिम संस्कार करना तो बेहद अमानवीय है। हमने नगर निगम में सत्ताधारी BJP के सामने कई बार एंबुलेंस की संख्या बढ़ाने का मुद्दा उठाया, लेकिन कोई सुध लेने को तैयार नहीं हुआ।अस्पतालों से शवों को इस तरह गाड़ियों में लादकर श्मशान घाट भेजा जा रहा है।मरीजों के मामले में जिला टॉप-10 मेंअहमदनगर जिला कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मामले में टॉप-10 में है। जिले में हर रोज 2000 से ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। यहां अब तक मरीजों की संख्या 1.9 लाख तक पहुंच चुकी है। 1270 लोगों की मौत हुई है। अभी भी जिले में 11,637 एक्टिव केस हैं। बीते 24 घंटों में ही कोरोना की वजह से मरने वालों का आंकड़ा 48 तक पहुंच चुका है।बीड में भी हुई थी ऐसी घटनादो दिन पहले ही बीड जिले के आंबाजोगाई में एक जगह पर पर 8 शवों का अंतिम संस्कार एक चिता पर किए जाने की खबर सामने आई थी। उसमें भी जांच की बात कही गई थी। दरअसल, कोरोना से बढ़ती मौतों की वजह से श्मशान घाट और कब्रस्तान में भी व्यवस्थाएं चरमरा गई हैं। कई शहरों में इसी तरह के हालात देखने को मिल रहे हैं।

April 09, 2021 14:11 UTC


निगम की नई रणनीति: 40 वार्डों से सिर्फ 40 फीसदी ही कूड़ा डोर टू डोर एकत्र हो पा रहा, अब ठोस कूड़ा प्रबंधन में वार्ड कमेटियों की मदद करेंगी NGO

Hindi NewsLocalDelhi ncrFaridabadOnly 40 Percent Of The Garbage Door To Door Is Being Collected From The Chalice Wards, Now The NGOs Will Help The Ward Committees In Solid Waste ManagementAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपनिगम की नई रणनीति: 40 वार्डों से सिर्फ 40 फीसदी ही कूड़ा डोर टू डोर एकत्र हो पा रहा, अब ठोस कूड़ा प्रबंधन में वार्ड कमेटियों की मदद करेंगी NGOफरीदाबाद एक दिन पहलेकॉपी लिंकनिगम कमिश्नर यशपाल यादव।सभी वार्डों में डी-कंपोस्टिंग व ठोस-तरल कूड़ा प्रबंधन को लेकर लोगों में जागरूकता फैलाने पर जोरभिवानी में कूड़े से तैयार किए जा रहे एक कंपोस्ट प्रोजेक्ट का मॉडल भी किया गया प्रदर्शितशहर के 40 वार्डों में महज 40 फीसदी कूड़ा डोर टू डोर एकत्र हो पा रहा है। इसलिए शहर को साफ सुथरा बनाने के लिए निगम प्रशासन ने नई रणनीति बनाई है। इसके तहत ठोस कूड़ा प्रबंधन में बनाई जा रही वार्ड कमेटियाें की मदद अब एनजीओ करेंगी। क्योंकि इस कमेटी में जिला प्रशासन, नगर निगम, सीएसआर पार्टनर और वार्ड के लोगों को शामिल किया जा रहा है। ऐसे में सभी एनजीओ व समाजसेवी लोग भी इन कमेटियों की मदद करें और लोगों में कूड़े से खाद तैयार करने और ठोस व तरल कूड़ा प्रबंधन के लिए लोगों में जागरूकता फैलाएं। तभी अपने शहर को साफ व सुंदर बनाया जा सकता है। इस मामले को लेकर निगम कमिश्नर यशपाल यादव ने एचएसवीपी कन्वेंशन सेंटर सेक्टर-12 में शहर के विभिन्न एनजीओ व सिविल सोसायटी के लोगों के साथ बैठक कर समस्या पर चर्चा की और उसके निदान पर विचार विमर्श किया।अभी 40 फीसदी घरों से ही उठ पा रहा कूड़ानिगम प्रशासन का मानना है कि शहर में मौजूदा समय में कूड़ा प्रबंधन एक सबसे बड़ी समस्या है। अभी तक महज 40 प्रतिशत घरों का कूड़ा एकत्र हो पा रहा है। सीवरेज व्यवस्था भी खराब है। ऐसे में ठोस व तरल कूड़ा प्रबंधन को लेकर सरकारी अधिकारीयों-कर्मचारियों, उद्योगपतियों, सीएसआर, सामाजिक धार्मिक व शैक्षणिक क्षेत्र से जुड़े लोगों के साथ मिलकर एक साझा प्रयास के तहत काम करना होगा।कूड़ा उठाने के लिए 220 वाहनों की है कमीबता दें कि 40 वार्डों से डोर टू डोर कूड़ा उठाना इकोग्रीन कंपनी और नगर निगम के एक बड़ी चुनौती है। कंपनी के पास पर्याप्त संसाधन तक नहीं है। जानकारों की माने तो पूरे 40 वार्डों में से कुल 450 वाहनों की जरूरत है। लेकिन केवल 230 वाहनों से ही काम चलाया जा रहा है। 220 वाहनों की कमी है। यही कारण है कि किसी भी सेक्टर से शत प्रतिशत कूड़ा नहीं उठ पा रहा है।सीएसआर फंड से शहर को किया जाएगा साफनिगम कमिश्नर ने कहा कि स्वच्छता अभियान को आगे बढ़ाने के लिए सभी को आगे आना होगा। कूड़े का प्रबंधन सिर्फ प्रशासनिक विषय नहीं है बल्कि इसके लिए सभी को मिलकर सहयोग व कार्य करने होंगे। जब कूड़ा घर से निकले उसी समय गीला व सूखा कचरा अलग-अलग किया जाए ताकि उसे अलग-अलग तरीके से खाद व अन्य ढंग से निस्तारित कर प्रयोग किया जा सके। उन्होंने बताया कि इस अभियान में कई बड़े उद्योगपतियों व संस्थानों को भी जोड़ा है जो अपने सीएसआर फंड के जरिए मदद करेंगे।अभियान से जुड़ने के लिए यहां करें संपर्कउन्होंने सिविल सोसायटी के लोगों से कहा कि कोई भी व्यक्ति अभियान से जुडऩे के लिए bit.ly/swachhmember पर लॉग इन कर सकता है। बैठक में मौजूद भिवानी निवासी रामप्रकाश ने अपने द्वारा चलाए जा रहे कंपोस्ट प्रोजेक्ट के बारे में भी लोगों को जानकारी दी। बैठक में एएमसी इंद्रजीत गुलेरिया, सीएमजीजीए रूपाला सक्सेना तथा 150 से अधिक एनजीओ के सदस्य व सिविल सोसायटी के व्यक्ति उपस्थित थे।

April 09, 2021 11:37 UTC


37 साल बाद लूट का आरोपी गिरफ्तार: 18 की उम्र में ट्रक का टायर लूटा था, 55 साल की उम्र में पुलिस ने पकड़ा; दूसरे आरोपी की हो चुकी मौत

Hindi NewsLocalRajasthanAjmerPolice Caught One After 37 Years In A Truck Tire Robbery Case In Ajmer; Second Accused Died 2 Years AgoAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप37 साल बाद लूट का आरोपी गिरफ्तार: 18 की उम्र में ट्रक का टायर लूटा था, 55 साल की उम्र में पुलिस ने पकड़ा; दूसरे आरोपी की हो चुकी मौतअजमेर 18 घंटे पहलेकॉपी लिंक7 मई 1983 को किशनगढ़ शहर थाने में दर्ज हुआ था मुकदमाट्रक टायर लूट के मामले में किशनगढ़ थाना पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, जो 37 साल से फरार चल रहा था। वहीं फरार दूसरे आरोपी की 2 साल पहले ही मौत हो चुकी है। गिरफ्तार किए गए आरोपी की उम्र 55 साल है, जबकि अपराध करते समय उसकी उम्र 18 साल थी।पुलिस अधीक्षक जगदीश चन्द्र शर्मा ने बताया कि 7 मई 1983 को किशनगढ़ शहर थाने में नीमसिंह ने मुकदमा दर्ज कराया कि गांव मानकपुर, यमुनानगर, हरियाणा निवासी सुरेन्द्र वाल्मीकि व यमुनानगर हरियाणा निवासी रामावतार जुल्लाह ने बांदरसिन्दरी में ट्रक के टायर जबरन खोलकर लूट कर ले गए। इस पर पुलिस ने मामला दर्ज किया लेकिन आरोपियों का पता नहीं चल पा रहा था। दोनों ही आरोपी फरार थे।इस पर टीम का गठन किया गया, जिसमें थाना प्रभारी बंशीलाल पाण्डर, एएसआई पूरणमल, बच्चू सिंह, सोनू राव शामिल थे। टीम को मुखबिर के जरिए सूचना मिली और हरियाणा से आरोपी सुरेन्द्र सिंह को गिरफ्तार किया। वहां पता चला कि एक अन्य आरोपी रामावतार की दो साल पहले 2019 में ही मौत हो चुकी है। आरोपी सुरेन्द्र वारदात के समय ट्रक पर कंडक्टर का काम करता था। वारदात के समय आरोपी 18 साल का था और वर्तमान में आरोपी की उम्र 55 साल है।

April 09, 2021 11:28 UTC


Tags
Finance      African Press Release      Lifestyle       Hiring       Health-care       Online test prep Corona       Crypto      Vpn      Taimienphi.vn      App Review      Company Review      Game Review     
  

Loading...